सोमवार, 11 अक्तूबर 2010

सार्थक शब्दमय देवी गीत

देवी गीत ...
नव रात्री पर्व सारे देश में नौ दस दिनों तक देवी पूजन , भक्तिभाव पूर्ण गायन , उपवास , बड़े बड़े पंडालों की स्थापना , और गरबा के आयोजन कर मनाया जाता है . देवी गीतों का प्रचार सब तरफ बढ़ गया है . पावन पर्व में गीत संगीत से पवित्र भअवना का प्रादुर्भाव और प्रसार बड़ा सुखद व मन भावन होता है . इसी दृष्टि से हर वर्ष नवरात्रि से पहले नये नये देवीगीत , जस , नौराता , के कैसेट्स बाजार में आ जाते हैं . दूर दूर गाँव ,शहरों में उत्सव समितियां ये कैसेट्स अनवरत बजाकर एक भाव भक्ति का वातावरण बना देती हैं . अब तो नवरात्रि के अनुकूल एस एम एस , रिंगटोन , वालपेपर आदि की भी मार्केटिंग हो रही है . बाजार की इस बेहिसाब माँग के चलते अनेक सस्तुआ शब्दों हल्के मनोरंजन वाले विकृत मानसिकता के देवी गीत भी विगत में सुनने को मिले . इनसे मन कोपीड़ा होती है , यह सांस्कृतिक पराभव ठीक नहीं है .
सुरुचिपूर्ण भक्ति , व देवी उपासना के लिये गीत संगीत ऐसा होना चाहिये जो श्रद्धा , विश्वास, सद्भाव , समर्पण तथा भक्ति को बढ़ावा दे .
इसी उद्देश्य से मैंने कुछ भावपूर्ण , सुन्दर , व सार्थक शब्दमय देवी गीतों की रचना की है . जो भी गायक , सी.डी. निर्माता , भक्त , धार्मिक संस्थायें चाहे वे इन सोद्देश्य गीतों को मुझसे निशुल्क जनहित में प्राप्त कर उन्हें प्रचारित करने हेतु कैसेट , सीडी बनवा सकते हैं . चाहें तो संपर्क करें .

प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
ओ बी ११ ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in





१ देवी गीत .... चलो माँ के दर्शन करें

प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in

आया नवरात्रि का त्यौहार , चलो माँ के दर्शन करें
अंबे मां का लगा है दरबार , चलो माँ के दर्शन करें

माता के दरसन है पावन सुहावन
नैनों से झरता है करुणा का सावन
भक्तों की माँ ही आधार , चलो माँ के दर्शन करें

माता के मंदिर की शोभा निराली
उड़ती ध्वजा लाल मन हरने वाली
खुला सबके लिये मां का द्वार , चलो माँ के दर्शन करें

मंदिर में जलती सुहानी वो जोती
जो मन के सब मैल किरणो से धोती
माता सुनती हैं सबकी पुकार चलो माँ के दर्शन करें










२ देवी गीत .... हम द्वार तुम्हारे आये हैं

प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
C / 6 ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in


माँ दरशन की अभिलाषा ले हम द्वार तुम्हारे आये हैं
एक झलक ज्योती की पाने सपने ये नैन सजाये हैं

पूजा की रीति विधानों का माता है हमको ज्ञान नही
पाने को तुम्हारी कृपादृष्टि के सिवा दूसरा ध्यान नहीं
फल चंदन माला धूप दीप से पूजन थाल सजाये हैं
दरबार तुम्हारे आये हैं , मां द्वार तुम्हारे आये हैं

जीवन जंजालों में उलझा , मन द्विविधा में अकुलाता है
भटका है भूल भुलैया में निर्णय नसही कर पाता है
मां आँचल की छाया दो हमको , हम माया में भरमाये हैं
दरबार तुम्हारे आये हैं , हम द्वार तुम्हारे आये हैं

जिनका न सहारा कोई माँ , उनका तुम एक सहारा हो
दुखिया मन का दुख दूर करो , सुखमय संसार हमारा हो
आशीष दो मां उन भक्तों को जो , तुम से आश लगाये हैं
दरबार तुम्हारे आये हैं ,सब द्वार तुम्हारे आये हैं










३ देवी गीत .... मात जगदंबे

प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
C / 6 ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in


हे जग की पालनहार मात जगदंबे
हम आये तुम्हारे द्वार मात जगदंबे

तुम आदि शक्ति इस जग की मंगलकारी
तीनों लोकों में महिमा बड़ी तुम्हारी , इस मन की सुनो पुकार मात जगदंबे

देवों का दल दनुजों से था जब हारा
असुरों को माँ तुमने रण में संहारा , तव करुणा अपरम्पार मात जगदंबे

चलता सारा संसार तुम्हारी दम से
माँ क्षमा करो सब भूल हुई जो हम से , तुम जीवन की आधार मात जगदंबे

हर जन को जग में भटकाती है माया
बच पाया वह जो शरण तुम्हारी है पाया , माया मय है संसार मात जगदंबे


माँ डूब रही नित भवसागर में नैया
है दूर किनारा कोई नहीं खिवैया , संकट से करो उबार मात जगदंबे


सद् बुद्धि शांति सुख दो मां जन जीवन को
हे जग जननी सद्भाव स्नेह दो मन को , बस इतनी ही मनुहार मात जगदंबे








४ देवी गीत ...दर्शन के लिये , पूजन के लिये, जगदम्बा के दरबार चलो

प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
C / 6 ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in




दर्शन के लिये , पूजन के लिये, जगदम्बा के दरबार चलो
मन में श्रद्धा विश्वास लिये , मां का करते जयकार चलो !! जय जगदम्बे , जयजगदम्बे !!

है डगर कठिन देवालय की , माँ पथ मेरा आसान करो
मैं द्वार दिवाले तक पहुँचू ,इतना मुझ पर एहसान करो !! जय जगदम्बे , जयजगदम्बे !!

उँचे पर्वत पर है मंदिर , अनुपम है छटा छबि न्यारी है
नयनो से बरसती है करुणा , कहता हर एक पुजारि है !! जय जगदम्बे , जयजगदम्बे !!


मां ज्योति तुम्हारे कलशों की , जीवन में जगाती उजियाला
हरयारी हरे जवारों की , करती शीतल दुख की ज्वाला !! जय जगदम्बे , जयजगदम्बे !!


जगजननि माँ शेरावाली ! महिमा अनमोल तुम्हारी है
जिस पर करती तुम कृपा वही , जग में सुख का अधिकारी है !! जय जगदम्बे , जयजगदम्बे !!


तुम सबको देती हो खुशियाँ , सब भक्त यही बतलाते हैं
जो निर्मल मन से जाते हैं वे झोली भर वापस आते है !! जय जगदम्बे , जयजगदम्बे !!





५ रहते भी नर्मदा किनारे प्यासे फिरते मारे मारे .......... देवी गीत
प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
C / 6 ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in

रहते भी नर्मदा किनारे प्यासे फिरते मारे मारे
भटकते दूर से थके हारे , आये दर्शन को माता तुम्हारे

भक्ति की भावना में नहाये , मन में आशा की ज्योति जगाये
सपनों की एक दुनियां सजाये , आये मां ! हम हैं मंदिर के द्वारे

चुन के विश्वास के फूल , लाके हल्दी , अक्षत औ चंदन बना के
थाली पूजा की पावन सजाके , पूजने को चरण मां तुम्हारे

सब तरफ जगमगा रही ज्योति , बड़ी अद्भुत है वैभव विभूति
पाता सब कुछ कृपा जिस पे होती , चाहिये हमें भी माँ सहारे

जग में जाहिर है करुणा तुम्हारी , भीड़ भक्तों की द्वारे है भारी
पूजा स्वीकार हो मां हमारी , हम भी आये हैं माँ बन भिखारी

माँ मुरादें हो अपनी पूरी , हम आये हैं झोली पसारे
हरी ही हरी होये किस्मत , दिवाले जैसे जवारे




६ ...... देवी गीत ...महिमा मां बड़ी तुम्हारी है

प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
C / 6 ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in

नवरात्रि पर्व में पूजा की महिमा मां बड़ी तुम्हारी है
हर गाँव शहर , घर घर जन जन में पूजा की तैयारी है

सबके मन भाव सुमन विकसे , मौसम उमंग से पुलकित है
हर मंदिर मढ़िया देवालय में , भीड़ भक्त की भारी है

सात्विक मन की पूजा सबकी होती अक्सर है फलदायी
संसार तुम्हारी करुणा का , मां युग युग से आभारी है

श्रद्धा के सुमन भरा करते , जीवन में मधुर सुगंध सदा
आशीष चाहता इससे मां , तेरा हर चरण पुजारी है

अनुराग और विश्वास जिन्हें है अडिग तुम्हारे चरणों में
उन पर करुणा की वर्षा करने की माता अब बारी है

कई रूपों , नामों धामों में , है व्याप्त तुम्हारी चेतनता
अति भव्य शक्ति , गुण की ,महिमा तव जग में हे माँ न्यारी है





७ ...... देवी गीत ...मोरि नैया लगा दो पार मैया
प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
C / 6 ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in


मोरि नैया लगा दो पार मैया जीवन की
है विनती बारंबार मैया दुखिया मन की

तुम हो आदिशक्ति हे माता
सबका तुमसे सच्चा नाता
सब पर कृपा तुम्हारी जग में
महिमा अपरम्पार तुम्हारे आंगन की
हम आये तुम्हारे द्वार , कामना ले मन की

कोई न किसी का संग सँगाती
जलती जाती जीवन बाती
घट घट की माँ तुम्हें खबर सब
अभिलाषा एक बार तुम्हारे दर्शन की
दे दो माँ आधार , शरण दे चरणन की

झूठे जग के रिश्ते नाते
कोई किसी के काम न आते
करुणामयी माँ तुम जग तारिणी
झूठा है संसार चलन जहाँ अनबन की
माँ नैया है मझधार भँवर में जीवन की
कौन करे उस पार नैया जीवन की
मोरि नैया लगा दो पार मैया जीवन की
है विनती बारंबार मैया दुखिया मन की





८ ...... देवी गीत ...तुम्हारे दर्शन को
प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव "विदग्ध"
C / 6 ,विद्युत मंडल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
मो. ०९४२५४८४४५२

Email vivek1959@yahoo.co.in


पावन नवरात्री की बेला , उमड़ी है माँ भीड़, तुम्हारे दर्शन को
मां सबकी तुम एक सहारा , पाने को आशीष तुम्हारा
आये चल के बड़ी दूर से , तुम्हें चढ़ाने नीर, तुम्हारे दर्शन को

तुम्हें ज्ञात हर मन की भाषा , आये हम भी ले अभिलाषा
छू के चरण शाँति पाने माँ , मन है बहुत अधीर , तुम्हारे दर्शन को

भाव सुमन रंगीन सजाये , पूजा की थाली ले आये
माला , श्रीफल , और भौग में , फल मेवा औ खीर , तुम्हारे दर्शन को

मन की कहने , मन की पाने , आशा की नई ज्योति जगाने
तपते जीवन पथ पर चलते , मन में है एक पीर , तुम्हारे दर्शन को

मां भू मंडल की तुम स्वामी , घट घट की हो अंतर्यामी
देकर आशीर्वाद , कृपाकर , लिख दो नई तकदीर , तुम्हारे दर्शन को




९ विश्व हो माँ ! कल्याणकारी

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध "
ओ बी ११ ,विद्युत मण्डल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
vivek1959@yahoo.co.in
फोन ०७६१२६६२०५२


जो भी अपनी सुनाने व्यथायें
दूर से चलके मंदिर में आयें
दीजिये माता आशीष उनको
मन में जो गहरी आशा लगायें
दीन भक्तो को बस आसरा है , कृपा की जगत जननी तुम्हारी


गाँव शहरों में गलियों सड़क में
उमड़ी है हर जगह भीड़ भारी
करके दर्शन व्यथायें सुनाने
आरती पूजा करने तुम्हारी
मन के भावों को पावन बनाता , पर्व नवरात्र का पुण्यकारी

भजन की स्वर लहरियो से गुंजित
हो रहा प्यारा निर्मल गगन है
होम के धूम की गंध से भर
हर पुजारी का मन मगन है
माँ ! दो वर जिससे हो हित सबों का , मान के प्रार्थनायें हमारी

जिनके मन में बसा है अंधेरा
माँ ! वहाँ ज्ञान का हो उजाला
जो भी हैं द्वेष , दुर्भाव , कलुषित
उनका मन होवे सद्भाव वाला
किसी का न कोई अहित हो , नष्ट हों दुष्ट , सब दुराचारी

१० कुल देवी से प्रार्थना


प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध "
OB 11 , MPEB , Rampur , Jabalpur
vivek1959@yahoo.co.in



कुल की गरिमा की उज्जवल माँ तुम शाश्वत पावन ज्योति
कुल की रक्षा , संवर्धन गति , उन्नति सन्मति तुमसे होती

तुम अविचल विमल असीम कृपा की शीतल छाया दात्री हो
यश सुख , गौरव देने वाली , इस कुल की भाग्य विधात्री हो

आशीष दीजिये माँ घर में , सबमें आपस में प्यार रहे
विनती है इस निर्बल मन की धन कीर्ति भरा परिवार रहे

पा ज्ञान ध्यान सन्मान , स्वास्थ्य , ढ़ृड़व्रती ,सभी विद्वान बने
यश का प्रकाश फैला सकने , इस कुल में सब गुणवान बनें

माँ क्षमा कीजिये बिसरा सब जानी अनजानी भूलों को
निर्मूल कीजिये सब पथ में आते संकट और शूलो को

वर दो बिल्कुल विचलित न करें ,दैनिक जीवन संग्राम हमें
हम सबका चरणो में माता , है बारम्बार प्रणाम तुम्हें





११ माँ दुर्गा की स्तुति

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध "
vivek1959@yahoo.co.in

हे सिंहवाहिनी , शक्तिशालिनी , कष्टहारिणी माँ दुर्गे
महिषासुर मर्दिनि,भव भय भंजनि , शक्तिदायिनी माँ दुर्गे


तुम निर्बल की रक्षक , भक्तो का बल विश्वास बढ़ाती हो
दुष्टो पर बल से विजय प्राप्त करने का पाठ पढ़ाती हो
हे जगजननी , रणचण्डी , रण में शत्रुनाशिनी माँ दुर्गे


जग के कण कण में महाशक्ति कीव्याप्त अमर तुम चिनगारी
ढ़१ड़ निस्चय की निर्भय प्रतिमा , जिससे डरते अत्याचारी
हे शक्ति स्वरूपा , विश्ववन्द्य , कालिका , मानिनि माँ दुर्गे

तुम परब्रम्ह की परम ज्योति , दुष्टो से जग की त्राता हो
पर भावुक भक्तो की कल्याणी परंवत्सला माता हो
निशिचर विदारिणी , जग विहारिणि , स्नेहदायिनी माँ दुर्गे .

१२ देवी गीत


प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध "
ओ बी ११ ,विद्युत मण्डल कालोनी , रामपुर , जबलपुर
vivek1959@yahoo.co.in
फोन
०७६१२६६२०५२




आशीष उसे दो माँ अपना , दरबार तुम्हारे आया जो
कल्याण करो उस दुखिया का जो जग में गया सताया हो

मन्दिर में आते दीन दुखी , मन में भारी विश्वास लिये
अभिलाषा पूरी होने की , दर्शन से तुम्हारे , आश लिये
आकर के तुम्हारे द्वारे तक , मन को मिलती है शांति बड़ी
हे करुणामयी ! असहायों को , माँ अपनी आँचल छाया दो

आनन्द भरा होता जैसे , वर्षा की मन्द फुहारो में
औ" होता है संगीत मधुर , जैसे वीणा के तारो में
आल्हाद वही देती सबको , कलशो की जगमग ज्योति यहाँ
भरती उसकी भी झोली है , माँ शरण तुम्हारी आया जो

दिपती जो पावन ज्योति मधुर , देती है खुशी सब आँखों को
उत्साह बढ़ाती हर जन का , दे शक्ति पराजित पांखों को
जिनका न सहारा कोई कहीं , उनका बस तुम्ही सहारा हो
हो कृपा जगत जननी ऐसी , सब भक्तो का मनभाया हो


उपवास ,जाप ,पूजन अर्चन ,सब मन के ताप मिटाते हैं
इससे ही आरति , भण्डारों मे , लोग दूर दूर से आते हैं
अनुराग भरी तव कृपा दृष्टि से , पावन हो संसार सकल ,
सुख शांति से सबका हित हो माँ! हर घर में हर्ष समाया हो .



१३ लक्ष्मी स्तवन

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध "
vivek1959@yahoo.co.in


कल्याण दायिनी , धनप्रदे , माँ लक्ष्मी कमलासने
संसार को सुखप्रद बनाया , है तुम्हारे वास ने

चलती नहीं माँ जिंदगी , संसार में धन के बिना
जैसे कि आत्मा अमर होते हुये भी , तन कर बिना
निर्धन को भी निर्भय किया ,माँ तुम्ही के प्रकाश ने

हर एक मन में है तुम्हारी ,कृपा की मधु कामना
आशा लिये कर सक रहा , कठिनाईयों का सामना
जग को दिया आलोक हरदम , तुम्हारे विश्वास ने

संगीत सा आनन्द है , धन की मधुर खनकार में
संसार का व्यवहार सब , केंन्द्रित धन के प्यार में
सबके खुले हैं द्वार स्वागत में , तुम्हें सन्मानने

मन सदा करता रहा , मन से तुम्हारी साधना
सजी है पूजा की थाली , करने तेरी आराधना
माँ जगह हमको भी दो ,अपने चरण के पास में

१४ सरस्वती वन्दना

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध "
vivek1959@yahoo.co.in

शुभवस्त्रे हंस वाहिनी वीण वादिनी शारदे ,
डूबते संसार को अवलंब दे आधार दे !

हो रही घर घर निरंतर आज धन की साधना ,
स्वार्थ के चंदन अगरु से अर्चना आराधना
आत्म वंचित मन सशंकित विश्व बहुत उदास है,
चेतना जग की जगा मां वीण की झंकार दे !

सुविकसित विज्ञान ने तो की सुखों की सर्जना
बंद हो पाई न अब भी पर बमों की गर्जना
रक्त रंजित धरा पर फैला धुआं और औ" ध्वंस है
बचा मृग मारिचिका से , मनुज को माँ प्यार दे


ज्ञान तो बिखरा बहुत पर , समझ ओछी हो गई
बुद्धि के जंजाल में दब प्रीति मन की खो गई
उठा है तूफान भारी , तर्क पारावार में
भाव की माँ हंसग्रीवी , नाव को पतवार दे

चाहता हर आदमी अब पहुंचना उस गाँव में
जी सके जीवन जहाँ , ठंडी हवा की छांव में
थक गया चल विश्व , झुलसाती तपन की धूप में
हृदय को माँ ! पूर्णिमा सा मधु भरा संसार दे .

2 टिप्‍पणियां:

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

बहुत सुन्दर देवी-गीत.मन प्रसन्न हो गया. कभी 'शब्द-शिखर' पर भी पधारें !!

परमजीत सिँह बाली ने कहा…

बहुत सुन्दर व भावपूर्ण प्रस्तुति। धन्यवाद।